page contents

Rann Utsav Hindi– कच्छ के धोरडो में आये हुवे इस सफ़ेद निर्मल विस्तार को दुनिया में सबसे बड़ा नमक का रेगिस्तान माना जाता है।

रण उत्सव गुजरात राज्य के कच्छ जिले में साल में एक बार मनाए जाने वाला बहोत ही सुन्दर त्यौहार है। कच्छ में आया हुवा यह रण अपने श्वेत रंग के लिए जाना जाता है। यह उत्सव पूर्ण चंद्रमा के निचे श्वेत रण की प्राकृतिक सुंदरता का कार्निवल है। 

इस साल के कार्निवल की तारीख घोषित हो गयी थी वो 01 दिसंबर से लेकर 20 फरवरी थी। तो आइये आज हम गुजरात में मनाये जाने वाले कुछ प्रमुख कार्निवलों में से एक कच्छ के रण महोत्सव की बात करते है।

अब इस साल का यह उत्सव पूरा हो गया है। अगले साल कब होगा उसकी जानकारी मैंने मेरे आर्टिकल में दे दी है। आप इस साल सिर्फ जानकारी ले लीजिये जिससे अगले साल कैसे प्लान करना है उसका पता आप को चल सके।

ये आर्टिकल जरूर से उसमें आप को मदद करेगा।

तो आइये फ्रेंड्स शुरू करए है।

कई वर्षों तक कच्छ मानो भारत के भूगोल से अलग था और बाहरी प्रभाव न होने के कारण यहाँ के लोगों ने अपनी कला और संस्कृति को अभी तक संभाल कर रखा है। 

बाद में इसी कला और संस्कृति ने सहेलानियों को यहाँ आकर्षित किया और आज हम इसी महोत्सव के बारे में ज्यादा जानने जा रहे है जिसे आप वहां पर जाके महसूस भी कर सकते हो।

Great Rann Of Kutch-kutch gujarat

Image Credit : Bishnu Sarangi from Pixabay” 

Kutch ek Najar me - पारम्परिक..

कच्छ राज्य अपने लोगों और उनकी कला,नृत्य,संगीत,शिल्प और कुदरती प्रकृति की एक उत्सव भूमि है। 

यहाँ पर एक विशाल सफ़ेद बंजर क्षेत्र आया हुवा है जो नमक की चादर ओढ़े हुवे है। जिस पर रात में चंद्र की रौशनी पड़ते ही एक विशाल ख़तम न होने वाले समुद्र की तरह दिखने लगता है।

कच्छ के इस सफ़ेद रण की खूबसूरती निहारने को पर्यटक हर साल यहाँ पर रण उत्सव में आते है। जिसका आयोजन राज्य सरकार द्वारा हर साल किया जाता है।

इस रण उत्सव में यहाँ की भातीगढ़ संस्कृति का प्रस्तुतीकरण होता है। जबकि झिलमिलाते चांदनी परिदृश्य में आयोजित लोक संगीत और नृत्य प्रदर्शन की एक सरणी सबसे करामाती अनुभव प्रदान करती है।

Rann Utsav Hindi

Rann of Kutch Itihas - कच्छ के रण का इतिहास..

कच्छ में रण है डूंगर है और समुद्र किनारा है।

अगर हम रण की बात करें तो 16 जून 1819 में कच्छ में एक बड़ा भूकंप हुवा था।

यहाँ की लोक वयकाओ के अनुसार जब भूकंप हुवा तब यहाँ से 70 किमी दूरी पर आया हुवा कोटेश्वर के समुद्र किनारे के पास सिंधु रिवर हुवा करती थी जिसका मोड़ 1819 के भूकंप की वजह के कारन बदल कर पाकिस्तान की और हो गया। 

हाई टाइड की वजह से पानी की जुवार आती है क्यूंकि भूकंप से जो प्लेट खिसकी वो 10 से 12 फ़ीट की प्लेट खिसकी थी जिसकी वजह से हाई टाइड के माध्यम से पानी जिसे बैक वाटर कहते है जो आ जाता है वो वापिस जा नहीं पाता और वो समुद्री लेक बन जाता है वो पानी यहाँ पर 18000 स्क्वेर किमी में खारे के पानी का लेक(तालाब) बन जाता हैं। 

जून जुलाई में जो बारिस हुवी उसका पानी भी इसमें मिल जाता है जिसे सूखने में 4 महीने लग जाते है 4 महीने के बाद जब ये पानी सुख जाता है तब यह नमक के एक चमकीले मैदान में बदल जाता है। 

यह पूरा एरिया 23000 स्क्वेर किमी का है जिसमे 18000 स्क्वेर किमी का ये वाइट रण का चमकीला मैदान है जिसे हम सफ़ेद रण के नाम से जानते है।  जिसे आप रण में बने वॉच टावर से अच्छी तरह देख सकते है।

Image Credit : Ali Tinwala from Pixabay” 

दिन में रण अपनी तासीर बदलता रहता है। यहाँ अर्ली मॉर्निग रण का स्वरुप अलग होता है,दोपहर के 12 से 1 में अलग दीखता है, इवनिंग के 4  से 6 में अलग दीखता है,सन सेट के पहले और सन सेट के बाद रण अलग अलग दीखता है ,और रात की चांदनी में तो इसका स्वरुप तो यादगार होता है।

गुजरात का पाकिस्तान की और जाते हुवे आखरी गांव धोरडो है और यहाँ से 56 किमी दूरी पर पाकिस्तान का पहला गांव मंजीत पड़ता है।

पहले के समय में जब भारत पाकिस्तान एक हुवा करते थे तब लोग इसी रण से पाकिस्तान आया जाया करते थे।

यह पूरी जानकारी यहाँ के एक ऑफिसियल गाइड शंकर भाई से मिली है।

A Story Behind the name of Kutch - कच्छ नाम के पीछे की कहानी..

Map of Kutch

कच्छ का नाम रखने के पीछे भी एक अलग कहानी है।

कच्छ के मैप को अगर आप उल्टा करोगे तो वो एक कछुवे की तरह दिखेगा। अपने पूर्वजों के पास सैटेलाइट जैसे संसाधन नहीं होने के बावजूद उन्होंने एकदम सटीक नाम कच्छ रखा।

Rann Utsav Hindi

Best time to visit rann of Kutch ? - कच्छ के रण में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय कौनसा है?

दिसंबर का समय एकदम बढ़िया समय है यहाँ पर आने के लिए जिसका कारण यह है की दिसंबर तक इस मैदान में थोड़ी नमी रहती है जिसकी वजह से नमक की मात्रा कम होती है।

दिसंबर के बाद यह मैदान एकदम सुख जाता है जिसकी वजह से नमक पूरी तरह बन जाता है जिसकी वजह से वो एकदम चमकीला मैदान बन जाता है। जो चांदनी रात में खूब चमकता है।

Ran utsav dates - रण उत्सव कब मनाया जाता है?

रण उत्सव कच्छ में मनाये जाने वाला सबसे बड़ा उत्सव है जो हर साल सर्दियों में राज्य सरकार द्वारा आयोजित किया जाता है।

गुजरात के पर्यटन अधिकारी भारत के सबसे बड़े इस जिले की समृद्ध संस्कृति को प्रदर्शित करने के लिए कच्छ में कार्यक्रम आयोजित करते हैं। 

वाइब्रेंट गुजरात के संरक्षण में यह उत्सव दुनिया भर के लोगों के लिए कच्छ का दौरा करने और क्षेत्र के असली स्वाद का अनुभव करने का एक अनूठा अवसर है।

इस साल इसकी तारीख राज्य सरकार ने घोसित की थी वो 01 दिसंबर से लेकर 20 फरवरी थीं।

और अगले 4 साल की तारीख भी यहाँ पर दे रहा हूँ जिसकी जानकारी ऑफिसियल वेबसाइट से मिली है।

1 नवंबर 2020 से 28 फरवरी 2021 तक

1 नवंबर 2021 से 28 फरवरी 2022 तक (अगले साल)

1 नवंबर 2022 से 28 फरवरी 2023 तक

1 नवंबर 2023 से 28 फरवरी 2024 तक

Kutch Atmospher - कच्छ वातावरण

कहीं भी घूमने जाने से पहले आप को उस जगह का और आने वाले कुछ दिनों का वातावरण जान लेना अत्यंत आवश्यक है जिससे आप को किन किन चीजों की जरुरत रहेगी उसकी तयारी कर सको। जिससे आप अपनी यात्रा को ज्यादा सुखद कर सको।

में यहाँ पर आप को इस जगह का लाइव वातावरण जानने के लिए एक लिंक दे रहा हूँ जिससे आप यहाँ का वातावरण जान सकते हो।

How to reach rann utsav ? - रण महोत्सव कैसे पहुंचे ?

आप यह रण उत्सव में भुज से सीधे ही पहुँच सकते हो। भुज से आप को यहाँ पहुँचने के लिए कई प्राइवेट और सरकारी बसें और टैक्सी मिल जाएगी।

मैंने यहाँ पर पहुँचने के लिए एक पूरा आर्टिकल अलग से लिखा हुवा है जिसमे यहाँ पहुँचने के संभव सारे रास्ते और तरीकों को बताया हुवा है।

अगर आप अगले साल के रण उत्सव का हिस्सा बनने की सोच रहे हो तो यह आर्टिकल एक बार जरूर से पढ़ें।

पूरी जानकारी रण उत्सव कैसे पहुंचे ?

Rann Utsav Hindi

Where to stay in ran utsav ? - रण उत्सव में कहाँ पर रुकें ?

रण उत्सव में रुकने के तीन तरीके है।

1.आप सरकार द्वारा तैयार किये गए टेंट की सुविधा का लाभ ले। आप टेंट सिटी में रुकें।

Rann Utsav HIndi-Tent city

Image Credit : Ali Tinwala from Pixabay” 

लगभग 400 टेंट का एक भव्य टेंट सिटी, जिसमें वातानुकूलित और गैर-वातानुकूलित टेंट दोनों शामिल हैं, की स्थापना रण में धोराडो के सीमावर्ती गांव के बाहरी इलाके में की जाती है।

पर्यटकों को यहाँ पर रुकने के लिए आधुनिक टेंट की व्यस्था की जाती है। जो 3 प्रकार के होते है।

  1. Non Ac Tent – 5500/- से शुरू
  2. Deluxe Ac Tents – 7100/- से शुरू
  3. Premium Tents – 8100/- से शुरू

जिसकी बुकिंग आप को पहले से करवानी पड़ेगी। बुकिंग के लिए में यहाँ पर रण उत्सव की ऑफिसियल वेब साइट शेयर कर रहा हूँ जहाँ से आप को ज्यादा विस्तार से माहिती मिल जाएगी।

https://www.rannutsav.com/package-tour.php

2.प्राइवेट होटल और रिसोर्ट में रुके।

यहाँ पर कुछ प्राइवेट होटल्स और रिसॉर्ट्स की भी सुविधा है जिसका आप लाभ ले सकते है। जिसकी लिंक में निचे दे रहा हु। 

आप वहां से प्राइवेट होटल्स की पूरी जानकारी पा सकते हो। यहाँ पर रुकना टैंट सिटी से थोड़ा सस्ता पड़ेगा। यहाँ पर आप को 2000 से 3000 में अच्छा रूम मिल जायेगा।

https://www.makemytrip.com/hotels/rann_utsav-details-kutch.html

3.हेरिटेज होम्स में रुकें

अगर आप अकेले घूमने आने वाले हो और टेंट सिटी के महंगे टेंट में रुकना नहीं चाहते हो तो आप धोरडो के नजदीकी गाँव जैसे की भिरंडियारा, होड़का, गोरेवाली में हैरिटेज होम्स में रुक सकते है जो भी बहोत ही सुन्दर तरीके से सजाये होते है।

जो आप को करीब 700 से 1000 में ही मिल जायेंगे। 

यहाँ से आप को बाइक रेंट पर मिल जाएगी जो लेके आप आराम से सफ़ेद रण घूम सकते हो।

Rann Utsav Hindi-Haritage Homes

Image Credit : PXhere

Rann Utsav Hindi

Type of tourism in kutch - टाइप ऑफ़ टूरिसम..

कच्छ गुजरात के साथ साथ इण्डिया का सबसे बड़ा डिस्ट्रिक्ट है। जिसमें कई तरह के टूरिसम को प्रोत्साहन किया जाता है। जैसे की..

  • हेंडीक्राफ्ट हब।
  • हैरिटेज विलेजीस।
  • हिस्टोरिकल पेलेसिस। 
  • पिकनिक एंड अडवेंचरस स्पॉट्स।
  • स्पिरिचुअल पेलेसिस। 
  • बिचिस। 
  • मेमोरिअल्स।
  • ब्यूटी ऑफ़ नेचर।

Which activity we can enjoy in rann utsav ? - रण उत्सव में क्या एन्जॉय कर सकते है ?

यहां गोल्फ कार्ट,एटीवी राइड,कैमल कार्ट एक्सर्साइज,पैरामोटरिंग,मेडिटेशन,योग और आनंद गुजराती संस्कृति में भाग लेने के दौरान बहुत सारे काम किए जाते हैं।

इस रण उत्सव में कला, संगीत और संस्कृति का अनोखा संगम देखने को मिलता है। 

रण उत्सव में रात को पारम्परिक लोक गीत और सांस्कृतिक नृत्य का आयोजन किया जाता है। जिसमे कई गाँव से आये हुवे कलाकारों द्वारा अपनी पारम्परिक कला का प्रदर्शन किया जाता है।

प्रत्येक गाँव का अपना अनूठा शिल्प है जो कच्छ के प्रतिभाशाली और विशिष्ट कलात्मक लोगों द्वारा सदियों से महारत हासिल है। 

कच्छी महिलाओं की उत्कृष्ट शिल्प कौशल की तुलना में मशीन-कलाकृतियां काम करती हैं जो सावधानीपूर्वक विस्तार और आश्चर्यजनक सटीकता के साथ काम करती हैं। 

बुनाई, चिथड़े, ब्लॉक प्रिंटिंग, बंधनी, टाई-एंड-डाई, रोगन-आर्ट और कढ़ाई के अन्य जातीय शैलियों से लेकर मिट्टी के बर्तनों, लकड़ी-नक्काशी, धातु-शिल्प और शैल-वर्क तक विभिन्न प्रकार के शिल्प हैं।

विशेष रूप से आयोजित मेले के साथ, रण उत्सव वास्तव में एक त्योहार है जो कच्छ के विभिन्न हिस्सों से उत्पन्न विभिन्न कला रूपों और हस्तशिल्प का जश्न मनाता है।

What to buy in Rann Utsav ? - रण उत्सव में क्या खरीद सकते है ?

कच्छ जिले के अधिकांश छोटे गाँव शिल्प व्यवसाय में लगे हुए हैं, कुछ बेहतरीन कलाकृतियाँ तैयार करते हैं जिन्हें वे रण उत्सव के दौरान बिक्री पर लगाते हैं।

कई जनजातियाँ हैं जो अपने क्षेत्र की प्रसिद्ध कला के साथ विभिन्न हस्तनिर्मित लेख तैयार करती हैं। 

11,000 से अधिक महिलाएं और 65 गाँव हस्त व्यवसाय में लगे हुए हैं। आप कच्छ के गांवों से कशीदाकारी बेडशीट, कपड़े, जैकेट, साड़ी, कालीन आदि खरीद सकते हैं।

Rann Utsav Hindi

Places to visit in Kutch - कच्छ में देखने लायक जगहें..

गुजरात की उत्सव भूमि, कच्छ संस्कृति, परंपराओं, लोगों, इतिहास, वन्य जीवन और प्रकृति का एक अनूठा मिश्रण है। 

भारत के सबसे बड़े जिलों में से एक, कच्छ में हर यात्री के लिए कुछ न कुछ है। 

धोलावीरा में पुरातात्विक स्थल 5000 साल पुरानी सिंधु घाटी सभ्यता, भुज घर के अविश्वसनीय कला खजाने के महल, और गढ़वाले गांवों के स्कोर उनकी विरासत की यात्रा के लायक हैं।

कच्छ के उत्तरी और पूर्वी क्षेत्रों में कच्छ के महान रण नामक एक विशाल सफ़ेद नमक से घिरे रेगिस्तानी जंगल शामिल हैं, जबकि दक्षिण पश्चिम में नरम रेत और शांत पानी के साथ मांडवी जैसे सुंदर समुद्र तट हैं। 

लवण दलदल, झीलों और घास के मैदानों में पक्षी विचरण करते हैं, जबकि जंगली गधे, कैराकल, भेड़िया और चिंकारा गज़ेल जैसे लुप्तप्राय स्तनपातों को रण और बन्नी घास के मैदान में देखा जा सकता है।

1. Rann of kutch –  कच्छ का रण

2. Mandvi beach – मांडवी बीच

3. Kalo Dungar – कालो डूंगर

4. Bhujiyo dungar – भुजियो डूंगर

5. Dholavira – धोलावीरा

6. Mata no madh – माता नो मढ़

7. Narayan sarovar- Koteshwar – नारायण सरोवर- कोटेश्वर

8. Hamirsar Lake – हमीरसर झील

9. Jesal Toral Samadhi – जेसल तोरल समाधि

10. Hajipir dargah – हाजीपीर दरगाह

11. Vijay vilas palace-mandvi – विजय विलास महल-मांडवी  

12. Prag Mahal & Aina Mahal – प्राग महल & आइना महल 

13. Kutch Museum-Bhuj – कच्छ संग्रहालय-भुज

14. Lakhpat fort – लखपत किला

15. Swaminarayan temple-bhuj – स्वामीनारायण मंदिर-भुज

16. Bhadreshwar – भद्रेश्वर

17. India house – kranti tirth – इंडिया हाउस – क्रांति तीर्थ

18. Hiralaxmi park – bhujodi – हीरलक्ष्मी पार्क – भुजोडी

19. Kandla Port – कंडला पोर्ट

कुल मिला के करीब 19 जगहे ऐसी है जिसे आप अगर कच्छ गए हो तो देख सकते है। जिसमे से आज हमने रण ऑफ़ कच्छ के बारे में विस्तार से जाना।

यहाँ पर जो पिंक कलर में जगहों के नाम दिख रहे है वो सारी लिंक है जिसके ऊपर क्लिक करने से आप उस जगह के ऊपर विस्तार से लिखे हुवे मेरे आर्टिकल पर पहुँच जायेंगे। उस आर्टिकल में आप को उस जगह की पूरी जानकारी मिल जाएगी।

मैंने ऊपर दी गयी जगहों में से ज्यादातर जगहों की जानकारी देने के लिए एक अलग से आर्टिकल लिखा है।

जिसकी लिंक में यहाँ पर दे रहा हूँ जहाँ से आप कच्छ में देखने लायक सारी जगहों के बारे में विस्तार से जान सकोगे।

An Official Vedio By Gujarat Tourism..

यहाँ में रण उत्सव का ऑफिसियल विडिओ अपलोड कर रहा हूँ जिसमे रण उत्सव कैसे घूमे उसकी पूरी जानकारी अच्छे से दी हुवी है जिसे देखने के बाद आप का यह प्रवास और भी आसान हो जायेगा। 

Rann Utsav Hindi – यह आर्टिकल मैंने अपने खुद के अनुभव और मेरे दोस्तों के अनुभव से लिखा हुवा है।

अगर आप रण उत्सव के बारे में और भी ज्यादा जानकारी रखते हो तो यहाँ पर कमेंट बॉक्स में जरूर से शेयर कीजिये जिससे यहाँ पर घूमने आने वाले यात्रिको को रण उत्सव के बारे में और भी अच्छी जानकारी मिल सके जो हमारा इस आर्टिकल लिखने का मुख्य उदेश्य भी है।

अगर आप को यह आर्टिकल में दी गयी जानकरी उपयोगी लगी हो तो एक लाइक करना न भूलें और अपने दोस्तों में जरूर से शेयर कीजिये। 

और मेरी इस वेबसाइट को नोटिफिकेशन बेल दबाके जरूर से सब्सक्राइब कर लीजिये जिससे आगे आने वाले ऐसे और भी कई आर्टिकल का नोटिफिकेशन आप को मिल सके और मुझे और ज्यादा अच्छे आर्टिकल लिखने की प्रेरणा मिले।

Note : आर्टिकल में दी गयी टिकट की किंमत समय समय पर बदल सकती है। मैंने यहाँ मौजूदा किंमत दी है जिसे में समय समय पर अपडेट करता रहूँगा। फिरभी आप दी गयी किंमत को लगभग किंमत मान कर चलें।

अपना कींमती समय इस आर्टिकल को देने के लिए आपका धन्यवाद


dharmesh

My name is Dharmesh. I would like to travel different known as well as unknown places and same will be share with you in this website for make your journey more easy and enjoyable.

1 Comment

ปั้มไลค์ · July 25, 2020 at 5:23 am

Like!! Thank you for publishing this awesome article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share
Translate »